Breaking News

देवरिया कांड : ‘बड़े लोगों के पास भेजने से पहले ड्रग्‍स देती थी मैडम, कहती थी- दर्द नहीं होगा’

 

Deoria shelter home case: देवरिया शेल्‍टर होम में लड़कियों के यौन शोषण का खुलासा अगस्‍त में हुआ था, जब 11 साल की एक बच्‍ची किसी तरह भागकर पुलिस के पास पहुंची थी और वहां हो रही कारगुजारियों के बारे में बताया था।

देवरिया : यूपी के देवरिया में इस साल अगस्‍त में बड़े सेक्‍स स्‍कैंडल का खुलासा हुआ था, जो एक शेल्‍टर होम से चलाया गया था। इस कांड ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। शेल्‍टर होम चलाने वाली महिला गिर‍िजा त्रिपाठी पर लड़कियों के यौन शोषण से लेकर नवजात ब‍च्‍चों की तस्‍करी के आरोप भी लगे। यूपी पुलिस ने इस मामले में पीड़‍िताओं के बयान दर्ज किए गए हैं, जिसके मुताबिक, ‘बड़ी मैडम’ उन्हें ग्राहकों के पास भेजने से पहले कुछ दवाइयां देती थीं।

देवरिया जिले के मां विंध्‍यवासिनी महिला और बालिका संरक्षण गृह की पीड़िताओं के ये बयान यूपी पुलिस की महिला शाखा ने 6 अगस्‍त और दवेरिया पुलिस ने 7 अगस्‍त को दर्ज किए। बाद में इसे इलाहाबाद हाई कोर्ट में यूपी पुलिस एसआईटी की ओर से दायर चार्जशीट का हिस्‍सा बनाया गया। ‘टाइम्‍स ऑफ इंडिया’ के अनुसार, 12 साल की एक बच्‍ची ने अपने बयान में कहा, ‘हम लोगों को लड़कों के पास भेजने से पहले वो हमको कोई दवा खिलाती थी

 

: देवरिया शेल्‍टर होम में लड़कियों के यौन शोषण का खुलासा अगस्‍त में हुआ था, जब 11 साल की एक बच्‍ची किसी तरह भागकर पुलिस के पास पहुंची थी और वहां हो रही कारगुजारियों के बारे में बताया था।
deoria shelter home case
तस्वीर साभार: PTI देवरिया शेल्‍टर होम में लड़कियों के यौन शोषण का खुलासा 3 महीने पहले हुआ था (फाइल फोटो)
देवरिया : यूपी के देवरिया में इस साल अगस्‍त में बड़े सेक्‍स स्‍कैंडल का खुलासा हुआ था, जो एक शेल्‍टर होम से चलाया गया था। इस कांड ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। शेल्‍टर होम चलाने वाली महिला गिर‍िजा त्रिपाठी पर लड़कियों के यौन शोषण से लेकर नवजात ब‍च्‍चों की तस्‍करी के आरोप भी लगे। यूपी पुलिस ने इस मामले में पीड़‍िताओं के बयान दर्ज किए गए हैं, जिसके मुताबिक, ‘बड़ी मैडम’ उन्हें ग्राहकों के पास भेजने से पहले कुछ दवाइयां देती थीं और कहती थीं कि इससे उन्‍हें दर्द नहीं होगा।

देवरिया जिले के मां विंध्‍यवासिनी महिला और बालिका संरक्षण गृह की पीड़िताओं के ये बयान यूपी पुलिस की महिला शाखा ने 6 अगस्‍त और दवेरिया पुलिस ने 7 अगस्‍त को दर्ज किए। बाद में इसे इलाहाबाद हाई कोर्ट में यूपी पुलिस एसआईटी की ओर से दायर चार्जशीट का हिस्‍सा बनाया गया। ‘टाइम्‍स ऑफ इंडिया’ के अनुसार, 12 साल की एक बच्‍ची ने अपने बयान में कहा, ‘हम लोगों को लड़कों के पास भेजने से पहले वो हमको कोई दवा खिलाती थी। उनका कहना था कि इस दवा से तुम लोगों को दर्द नहीं होगा।’