Subscribe for notification
Categories: Breaking News
| On 2 वर्ष ago

2900 करोड़ की लागत से तैयार हुआ है दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति है पीएम मोदी ने किया अनावरण

By Gorakhpur Express News

(विष्णु प्रभाकर )                      Gorakhpur Express News.Com    देश के पहले गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल के सम्मान में तैयार 182 मीटर ऊंची दुनिया की सबसे विशालकाय प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का बुधवार को यानी आज लोकार्पण है. सरदार पटेल के विशाल व्यक्तित्व जितनी विशालकाय उनकी प्रतिमा भी है. सरदार पटेल ऐसी महान शख्सियत थे जिनकी भूमिका भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण रही है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी विशाल प्रतिमा का लोकार्पण करने के लिए वो केवडिया गांव पहुंच चुके हैं. मोदी ने सरदार पटेल की जयंती पर उनकी प्रतिमा का अनावरण

‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ के अनावरण के लिए देशभर की 30 छोटी-बड़ी नदियों का जल लाया गया है, जिसमें गंगा, यमुना, सरस्वती, सिंधु, कावेरी, नर्मदा, ताप्ती, गोदावरी और ब्रह्मपुत्र आदि शामिल हैं. पीएम मोदी ने इन्हीं 30 नदियों के जल से प्रतिमा के पास स्थित शिवलिंग का अभिषेक किया . इस दौरान 30 ब्राह्मण मंत्रों का जाप भी किया. गुजरात के सरदार सरोवर बांध के पास लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’ बनाई गई है. लौह पुरुष की सबसे बड़ी प्रतिमा के अनावरण के बाद भारतीय वायुसेना के तीन जहाज ने सलामी देते हुए तिरंगा बनाया. प्रतिमा के निकट ही प्रधानमंत्री यहां ‘वॉल ऑफ यूनिटी’ का भी अनावरण करेंगे.

मूर्ति के निर्माण में 70,000 टन सीमेंट, 18,500 टन मजबूत लोहा, 6,000 टन स्टील और 1,700 मीट्रिक टन कांसे का प्रयोग किया गया है. सरदार पटेल की प्रतिमा के साथ यहाँ और भी कई आकर्षण केंद्र हैं,

1. सरदार पटेल के जीवन पर संग्रहालय
2. भारत भवन प्रदर्शनी सभागृह
3. 3डी चित्रों का मानचित्रण
4. पर्यटक 153 मीटर की ऊचाई से प्राकृतिक सौन्दर्य का आनंद उठा सकेंगे
5. 250 शिविरों वाला टेंट सिटी
6. जनजातीय संग्रहालय हस्तशिल्प बाजार
7. फूलों की घाटी
8. राज्यों के अतिथि गृह

मोदी ने कहा की सरदार पटेल ने अपने आप को भारत के नाम कर दिया, आज मैं उनको शत-शत नमन करता हूँ. सरदार पटेल में कौटिल्य की कूटनीति और शिवाजी जैसा शौर्य उनके अंदर था. उन्होंने 5 जुलाई, 1947 को रियासतों को संबोधित करते हुए कहा था कि विदेशी आक्रांताओं के सामने हमारे आपसी झगड़े, आपसी दुश्मनी, वैर का भाव, हमारी हार की बड़ी वजह थी. अब हमें इस गलती को नहीं दोहराना है और न ही दोबारा किसी का गुलाम होना

Gorakhpur Express News

Leave a Comment