Uncategorized

बाल्मीकिनगर बराज से 5 लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने की सम्भावना को लेकर जिले में अलर्ट

पूर्वांचल के सबसे लोकप्रिय चैनल गोरखपुर एक्सप्रेस न्यूज़

चार साल बाद फिर नारायणी ने दिखाया रौद्र रुप, रात 11 बजे 3.42 लाख क्यूसेक हुआ डिस्चार्ज

आनंद कुमार गुप्ता महाराजगंज

नेपाल से निकलने वाली नारायणी गंडक नदी की धार पर नियंत्रण की गरज से बनाये गये बाल्मीकि बराज से रात में करीब पांच लाख क्यूसेक पानी गुजरने की सम्भावनाओं को लेकर तहसील प्रशासन हरकत में आ गया हैं।ऐतियातन नारायणी नदी के किनारे के ग्रामों में अलर्ट कर लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शरण लेने की सलाह दी गई हैं।
स्थानीय तहसील प्रशासन ने सोहगीबरवा सहित नदी किनारे ग्रामों में लाउडस्पीकर से सूचना प्रसारित करा कर लोगों को ऊंचे स्थान पर जाने की अपील किया है। इस बावत एसडीएम प्रमोद कुमार ने बताया कि बाल्मीकि बराज से गंडक नदी में रविवार की देर रात करीब पांच लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने की सूचना मिली है। इसे लेकर क्षेत्र के पथलहवा व टेलफाल पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया गया है। साथ ही नदी किनारे गांवों में पहुंच कर अपने वाहन के लाउडस्पीकर द्वारा ऊंचे स्थान पर जाने की सूचना प्रसारित किया गया है। सोहगीबरवा में बाढ़ के खतरे को देखते हुए वहां एसडीआरएफ व गांव बाढ़ समिति को सक्रिय कर दिया गया है। साथ ही लोगों से अपने जरूरत के सामान के साथ ऊंचे मचान आदि सुरक्षित स्थान पर जाने की अपील किया गया है।
बता दें कि नेपाल के नारायण घाट से करीब 5.5 लाख क्यूसेक पानी नारायणी नदी में रिकार्ड किये जाने के बाद नेपाल के जल शक्ति विभाग ने बिहार के बाल्मीकिनगर बराज को अलर्ट जारी किया था।जिसके बाद प्रशासनिक अमला हरकत में आ गया हैं।
आंकडो पर गौर करें तो 12 अगस्त 2017 में भी नारायण घाट से करीब छह लाख क्यूसेक पानी नारायणी में डिस्चार्ज हुआ था।लेकिन अगले ही दिन 13 अगस्त 2017 को बाल्मिकीनगर बराज पर 4.88 लाख क्यूसेक पानी डिस्चार्ज हुआ था।फिलहाल बाढ को लेकर प्रशासनिक अमला काफी अलर्ट है और लोगों को भी अलर्ट रहने की अपील की हैं।

Related Articles

Back to top button
Close