ब्रेकिंग न्यूज़

इंसानियत का मिसाल पेश किया कुशीनगर के ग्यासुद्दीन ने 340 किलोमीटर यात्रा कर

इंसानियत का मिसाल पेश किया कुशीनगर के ग्यासुद्दीन ने 340 किलोमीटर यात्रा कर

  •  कुशीनगर से लखनऊ निजी खर्चे पर यात्रा करके  पीजीआई में भर्ती एक महिला मरीज की जान रक्तदान करके बचाई। जिसके बाद इस युवक की तारीफ हर ओर हो रही है।

मुश्किल से मिलते हैं ओ नेगेटिव ब्लड ग्रुप के लोग

दरअसल प्रयागराज की एक महिला नेहा सिंह जो पीजीआई में प्रसव के लिए एडमिट हुई थीं, उन्होंने एक बच्ची को जन्म दिया लेकिन  जन्म के तुरंत बाद जच्चा बच्चा दोनों को आईसीयू में एडमिट करना पड़ा जहां दोनों को जरूरत पड़ी ओ नेगेटिव ब्लड ग्रुप की जो लाखों में से किसी एक में पाया जाता है। ये ब्लड पीजीआई के ब्लड बैंक में भी उपलब्ध नहीं था। वहां पर मौजूद किसी व्यक्ति ने फाजिलनगर क्षेत्र के युवा नेता जितेन्द्र प्रजापति का नंबर दिया जिसके बाद जितेन्द्र ने अपने वाट्सएप ग्रुप में ओ नेगेटिव ब्लड ग्रुप की जरूरत से सम्बंधित मैसेज डाला।

ग्यासुद्दीन शाह तैयार हुए रक्तदान के लिए

जितेन्द्र के मैसेज डालने के बाद ग्राम सभा लवकुश पूरब पट्टी के रहने वाले ग्यासुद्दीन शाह सामने आए। जिनका ब्लड ग्रुप ओ नेगेटिव था। ग्यासुद्दीन ने ना केवल कुशीनगर से लखनऊ की यात्रा अपने खर्चे पर की बल्कि पीजीआई पहुंचकर इंसानियत का फर्ज निभाते हुए मां-बेटी को नया जीवनदान दिया। ग्यासुद्दीन ने अपने जीवन में इससे पहले कभी रक्तदान नहीं किया था लेकिन दो जिन्दगियां बचाकर वो खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। ग्यासुद्दीन के इस नेकदिली की चर्चा पूरे क्षेत्र में है और सभी लोग उनकी तारीफ कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button
Close